clever fox : चालाक लोमड़ी की कहानी (Chalak lomdi story in hindi)

चालाक लोमड़ी और मूर्ख कौवे की सुपरहिट कहानी | the fox and the crow story in hindi

clever fox  चालाक लोमड़ी की कहानी (Chalak lomdi story in hindi)

एक जंगल में 1 चालाक लोमड़ी रहती थी , एक दिन लोमड़ी बहुत भूखी थी । भूख को मिटाने के लिए लोमड़ी भोजन की तलाश में लग गई । लोमड़ी ने भोजन के चक्कर में पूरा जंगल छान दिया लेकिन कोई भी भोजन उसको नहीं मिला । भूख बहुत लगी थी और अब तो लोमड़ी बहुत थक गई थी । अंत में लोमड़ी परेशान होकर एक पेड़ के नीचे बैठ गई ।

इधर – उधर नजर डालते उसने देखा की जिस पेड़ के नीचे लोमड़ी बैठी थी , उस पेड़ के ऊपर एक काला कौवा बैठा है और कौवे के मुंह में एक रोटी का टुकड़ा भी है । पेड़ के ऊपर बैठे कौवे के मुंह में रोटी का टुकड़ा देख के , चालाक लोमड़ी के मुंह में पानी टपकने लगा । आलस का फल कैसा ? हिन्दी कहानी

लोमड़ी कौवे से रोटी छीनने का तरीका विचार करने लगी । कुछ देर बाद लोमड़ी को कौवे के मुंह से रोटी का टुकड़ा छीनने का एक उपाय आया । लोमड़ी ने कौवे से कहा ।

चालाक लोमड़ी और मूर्ख कौवा | chalak lomdi aur murkh kauva ki kahani

लोमड़ी – कौवा भाई , कौवा भाई । तुम बहुत सुंदर हो । मैने बहुत लोगों से सुना है की तुम बहुत अच्छा गाना गाते हो । जंगल के कई जानवर तुम्हारी बहुत प्रशंसा करते हैं । कई जानवर तो ये भी कहते हैं कि तुम्हारी आवाज में जादू है । तुम्हारी गीत और मधुर आवाज के सभी दीवाने हैं । नाग राज और छोटी चींटी की कहानी

लोमड़ी कौवे से – कौवा भाई ! क्या तुम मुझे कोई अच्छा गीत सुनाओगे ?

THE CLEVER FOX STORY IN HINDI

कौवा अपनी भारी भरकम प्रशंसा सुनकर बहुत ज्यादा ही खुश हो गया । कौवा उस चालाक लोमड़ी की चाल नहीं समझा और उस lomdi की मीठी मीठी बातों में आ गया । 100 जंगली जानवरों के नाम

कौवा बिना कुछ सोचे – समझे गाना गाने के लिए जैसे ही मुंह खोला । कौवे के मुंह से रोटी का टुकड़ा नीचे गिर गया । पेड़ के नीचे जो लोमड़ी खड़ी थी , वो बहुत भूखी और चालाक लोमड़ी थी ।

चालाक लोमड़ी ने झट से रोटी का टुकड़ा मुंह में लिया और वहाँ से भाग गई । ये देख कर कौवा को अपनी भूल और मूर्खता पर बहुत पछतावा हुआ । लेकिन अब पछताने से क्या होगा ? चालाक लोमड़ी (clever fox story in hindi) ने अपनी चालाकी से मूर्ख कौवे के मुंह से रोटी का टुकड़ा ले लिया और अपनी भूख शांत कर ली । ा

चालाक लोमड़ी और कौवे की कहानी से सीख :

the chalak lomdi ki story facts learning in hindi –कभी भी अपनी प्रशंसा से ज्यादा खुश नहीं होना चाहिए । कई बार तो ये प्रशंसा झूठी भी होती है । हमारे जीवन में कई लोग अपने काम निकलवाने के लिए हमारी झूठी तारीफ़ों के पूल बाढ़तें हैं और हम इनके बहकावे में आ जाते हैं ।

हमे ऐसे लोगों से बचना चाहिए । क्योंकि ऐसे लोग अपना काम निकल जाने के बाद हमे पूछते भी नहीं । अलर्ट रहे और खुश रहें और खुद भी चालाक बने लेकिन किसी के हक का खाने के लिए नहीं बल्कि चालाक लोमड़ी जैसे लोगों से खुद को बचाने के लिए । बेचारा ऊंट की कहानी

कहानी पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद । और chalak lomdi story की तरह ही दमदार कहानी पढ़ने के लिए google में hindiveryshortstory search करें

Leave a Comment